Google ने अपना AI Chatbot Bard किया लॉन्च, आखिर Google Bard क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

1009
Googles-AI-chatbot-is-claimed-to

Google AI LaMDA : Google का चैटबॉट जो इंसानों की तरह भावनाओं को समझता है, लेकिन यह कितना सच है? LaMDA के साथ इस इंजीनियर की बातचीत लीक हो गई है, जिसके बाद LaMDA के बारे में कई बातें हो रही हैं कि इसका भविष्य क्या होगा और लमडा को लेकर Google की क्या योजना है।

ChatGPT के बाद अब LaMDA की हम काफी समय से चर्चा सुनते आ रहे हैं। अब इस बारे में खुद गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई (Google CEO Sundar Pichai) ने एक ब्लॉग पोस्ट में बताया है कि Bard कैसे लोगों की जिंदगी को आसान बनाने में मददगार साबित होगा. कंपनी का कहना है कि बार्ड (Bard) को आम लोगों के लिए उपलब्ध कराने से पहले एप्लिकेशन कुछ भरोसेमंद टेस्टर्स से गुजरेगी।

मिडिया रिपोर्ट के अनुसार LaMDA नाम के गूगल चैटबॉट (Google Chatbot) ने इंसानों की तरह सोचना शुरू कर दिया है। LaMDA को यह भी डर सताने लगा है कि इसे विकसित करने वाला इंजीनियर किसी दिन इसे बंद कर सकता है। Google ने 2021 में प्रकाशित अपने एक ब्लॉग में LaMDA का जिक्र किया है।

LAMDA का पूरा नाम लैंग्वेज मॉडल एंड डायलॉग एप्लीकेशन (Lamda-Language Model and Dialog Application) है। यह एक ऐसी तकनीक है जो बिना किसी झिझक के किसी से भी लगातार बात कर सकती है। LaMDA से इस इंजीनियर की बातचीत लीक हो गई है, जिसके बाद LaMDA को लेकर कई तरह की बातें हो रही हैं।

चैटजीपीटी (ChatGPT) की बढ़ती लोकप्रियता के बीच गूगल (Google) ने सोमवार को अपनी नई एआई सर्विस गूगल बार्ड (AI Service Google BARD) की घोषणा की, जिसका सीधा मुकाबला चैटजीपीटी से होगा। गूगल के इस एआई चैटबॉट का नाम है- बार्ड। बार्ड वर्तमान में चैटजीपीटी का एकमात्र प्रतियोगी है।

Google BARD क्या है?

गूगल बार्ड (Google Bard) एक AI सेवा है; जो कंपनी की अपनी वार्तालाप तकनीक LaMDA (Language Model for Dialog Applications) द्वारा संचालित है। यह Google द्वारा OpenAI ChatGPT के प्रत्यक्ष प्रतियोगी के रूप में प्रस्तुत किया गया है।

Google's AI Chatbot Bard Launched, What is Google BARD? Know full details

Google Bard-LaMDA पर चलता है, जो ट्रांसफ़ॉर्मर AI मॉडल पर आधारित है, और ChatGPT GPT-3 भाषा मॉडल पर चलता है, जो ट्रांसफ़ॉर्मर पर भी आधारित है। दिलचस्प बात यह है कि ट्रांसफॉर्मर (Transformer) खुद गूगल रिसर्च के दिमाग की उपज है, जिसे 2017 में एक ओपन-सोर्स प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया था।

Google Bard कैसे काम करता है?

Google Bard AI सेवा आपको वेब पर प्रस्तुत की गई जानकारी को और फ़िल्टर करेगी। आप सरल या कठिन प्रश्न पूछ सकते हैं, जैसे कि आकाश में कितने नक्षत्र हैं? पृथ्वी की उम्र क्या है? ब्लैक होल किसे कहा जाता है? जैसे जटिल प्रश्न का उत्तर चुटकियों में देता है।

हाल ही में एक परीक्षण के दौरान, Google ने बार्ड से नासा की नई खोज को एक बच्चे को समझाने के लिए कहा, जिसका जवाब आप नीचे तस्वीर में देख सकते हैं।

 

बार्ड से पूछे गए सवालों के जवाब आपको सटीक और प्वाइंट्स में मिल जाएंगे, जबकि गूगल सर्च इंजन पर आपको इन सवालों के जवाब में पूरे लेख मिल जाते हैं। कंपनी का कहना है कि जल्द ही बार्ड सभी के लिए उपलब्ध होगा और इसे LaMDA के लाइट वर्जन के साथ लॉन्च किया जाएगा, ताकि यह कम कंप्यूटिंग पावर (Computing Power) के साथ चल सके।

फिलहाल, गूगल बार्ड कुछ टेस्टर्स तक ही सीमित है, लेकिन एक बार टेस्टिंग खत्म हो जाने के बाद कंपनी इसे कुछ हफ्तों में पब्लिक के लिए रोल आउट कर देगी। अब देखना यह होगा कि गूगल बार्ड चैटजीपीटी को कैसे पछाड़ पाएगा, जिसके यूजर्स की संख्या 10 करोड़ के पार पहुंच गई है। आप इस बारे में अपनी बात हमारे कमेंट सेक्शन में भी रख सकते हैं।

सबसे तेजी से बढ़ता ऐप

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि वर्तमान में Open AI कंपनी द्वारा लॉन्च किया गया ChatGPT, टिकटॉक और इंस्टाग्राम जैसे बड़े प्लेटफॉर्म को पीछे छोड़ते हुए इतिहास में सबसे तेजी से बढ़ने वाली यूजर ऐप लिस्ट में शामिल हो गया है।

ChatGPT की बढ़ती स्थिति को देखते हुए, Google अपना Google AI चैटबॉट बार्ड भी विकसित कर रहा है। मिल रही जानकारी के मुताबिक इस AI चैट बोर्ड का नाम Bard by Google होगा।

फिलहाल इसे ग्राहकों के फीडबैक के लिए लॉन्च किया गया है। जल्द ही गूगल कंपनी इसे सभी के लिए जारी करेगी। वही गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने खुद इसकी पुष्टि की है।

Google Chatbot Bard क्या है? 

Chatbot Bard Kya Hai : चैट जीपीटी एप्लीकेशन (Chat GPT Application) को ओपन एआई कंपनी ने कुछ महीने पहले इंटरनेट की दुनिया में लॉन्च किया था। देखते ही देखते इसे दुनिया की पहली यूजर एप्लीकेशन बनने में ज्यादा समय नहीं लगा।

Chatbot Bard

इसे सीधी टक्कर देने के लिए गूगल अपना खुद का गूगल एआई चैटबॉट बार्ड (Google AI Chatbot Bard) लॉन्च कर रहा है। गूगल बार्ड क्या है इस नए एप्लिकेशन की मदद से यूजर्स गूगल बार्ड से चैट जीपीटी जैसी कोई भी जानकारी आसानी से पूछ सकते हैं और अपना काम आसान कर सकते हैं।

Google का AI चैटबॉट बार्ड कब लॉन्च होगा?

Google AI chatbot Bard Kya Hai इसका जवाब अल्फाबेट कंपनी और Google ने दिया है। गूगल के सुंदर पिचाई ने एक ब्लॉग पोस्ट में बताया है कि ग्राहकों का फीडबैक लेने के लिए चैटबॉट बार्ड नाम से कन्वर्सेशनल एआई सर्विस शुरू की जा रही है। टेस्टिंग के बाद इस चैटबॉट बार्ड (Chatbot Bard) को कुछ हफ्तों में सभी के लिए सार्वजनिक तौर पर लॉन्च कर दिया जाएगा।

नई तकनीक ‘LaMDA’ से लैस होगा गूगल का ‘चैटबॉट बार्ड’

सुंदर पिचाई द्वारा किए गए अपने ब्लॉग पोस्ट में दी गई जानकारी के अनुसार, इस नए लॉन्चिंग एप्लिकेशन Google AI चैटबॉट बार्ड (एक्सपेरिमेंटल कन्वर्सेशनल AI सर्विस बार्ड) में यूजर्स को LaMDA (Language Model and Dialog Application) लेटेस्ट फीचर्स से पावर्ड किया जाएगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ‘LaMDA’ Google एक AI चैटबॉट मशीन है, जो इंसानों की तरह सटीक और सटीक सोच सकता है। गूगल ने इसे 2 साल पहले लॉन्च किया था।

Google's AI Chatbot Bard Launched, What is Google BARD? Know full details

जबकि गूगल के सीईओ ने बताया कि कंपनी नए एआई चैट बॉट की क्षमताओं के बारे में बड़े भाषा मॉडल की शक्ति, बुद्धिमत्ता और रचनात्मकता के संयोजन (Combination) से लैस होगी। माना जा रहा है की ChatGPT और GoogleAI के बिच कदा मुकाबला होने जा रहा है।

Google का LaMDA क्या है?

सबसे पहले, यह समझने की कोशिश करते हैं कि LaMDA क्या है। तो आपको बता दें कि LaMDA एक चैटबॉट है जो इंसानों की तरह सोच सकता है। आमतौर पर किसी वेबसाइट या सर्विस के चैटबॉट से चैट करते समय यह कोडिंग के हिसाब से एक तय टोन में आपसे चैट करता है।

लेकिन गूगल का LaMDA चैटबॉट खुद सोच सकता है और आपकी भावनाओं को समझ सकता है। LaMDA को ह्यूमन इंटेलिजेंस का सबसे हालिया और सटीक उदाहरण माना जा सकता है। लैम्ब्डा एक भाषा मॉडल है जो इंसानों की तरह चैट करने में सक्षम है। इसे गूगल की टीम ने तैयार किया है।

LaMDA ट्रांसफॉर्मर पर बनाया गया है, जो Google द्वारा विकसित एक न्यूरल नेटवर्क आर्किटेक्ट है और 2017 में ओपन सोर्स के तहत सार्वजनिक किया गया था। यह चैटबॉट आपकी बातों को पढ़कर समझता है और फिर उसी के अनुसार आपको जवाब देता है।

Google ने दावे को खारिज किया

बीबीसी को दिए एक बयान में, एक Google प्रवक्ता, ब्रायन गेब्रियल ने कहा कि इसका कोई सबूत नहीं है कि लैम्ब्डा संवेदनशील है, जबकि इसे विकसित करने वाले इंजीनियर ब्लेक लेमोइन (Engineer Blake Lemoine) का मानना है कि लैम्ब्डा के प्रभावशाली मौखिक कौशल के पीछे एक संवेदनशील दिमाग है, या हो भी सकता है। ब्लेक लेमोइन ने ही चैटबॉट से चैट लीक की थी।

LaMda

माइक्रोसॉफ्ट एआई (Microsoft AI) जुआन एम के मुख्य वैज्ञानिक और लैब निदेशक लविस्टा फेरेस ने भी ट्वीट किया है कि LaMDA संवेदनशील नहीं है। LaMDA 137B मापदंडों के साथ एक बहुत बड़ा भाषा मॉडल है और सार्वजनिक भाषण डेटा और वेब टेक्स्ट के 1.56T शब्दों पर पूर्व-प्रशिक्षित है। यह मानव जैसा दिखता है, क्योंकि इसे मानव डेटा पर प्रशिक्षित किया जाता है।

Google ने अपने ब्लॉग में लैम्ब्डा के भविष्य के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है, लेकिन यह जरूर कहा है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artifical Intelligence) आधारित चैटबॉट्स के साथ जिम्मेदारी के साथ एक बड़ी समस्या है और लंबे अभ्यास के बाद ही यह समस्या दूर हो जाएगी।

गूगल ने लिखा है कि हम एक ऐसा चैटबॉट बनाना चाहते हैं जो पूर्वाग्रह से मुक्त हो और लोगों से सही तरीके से बात करे। Google 2017 से लैम्ब्डा बॉट पर काम कर रहा है। एक अनुमान ये भी है की LaMDA और ChatGPT में कड़ी टक्कर होगी।

LaMda सफल होने पर क्या लाभ होंगे?

आजकल कई कंपनियां चैटबॉट्स के जरिए ही अपनी सर्विस या कस्टमर सर्विस ऑपरेट कर रही हैं, लेकिन मौजूदा चैटबॉट्स का अपना दायरा है जिससे ग्राहकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

मौजूदा चैटबॉट्स एक तय पैटर्न के मुताबिक ही लोगों को जवाब दे सकते हैं, लेकिन अगर LaMda सफल रहा तो उसे आने वाले समय में कस्टमर सपोर्ट सर्विस (Customer Support Service) का सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा। इसे स्कूल से लेकर छोटे-बड़े बिजनेस तक अच्छे से इस्तेमाल किया जा सकता है।

क्या ChatGPT वास्तव में सीधी टक्कर देगा

अगर आपके पास थोड़ा सा भी तकनिकी ज्ञान है तो आप समझ गए होंगे, Google कंपनी ने OpenAI के ChatGPT को सीधे टक्कर देने के लिए अपना नया AI चैटबॉट बार्ड बाजार में उतारा है। जिस तरह से चैटजीपीटी यूजर्स कम समय में अपनी ओर ध्यान खींचने को मजबूर हो गए हैं। वह वास्तव में प्रशंसा के पात्र हैं।

आप इसकी तुलना 2 महीने बाद जनवरी में चैट जीटीपी के 100 मिलियन मासिक सक्रिय यूजर्स तक पहुंचने से कर सकते हैं। चैट जीपीटी की लोकप्रियता दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।

Google ने एंथ्रोपिक में एक बड़ा दांव लगाया

मिली जानकारी के मुताबिक एंथ्रोपिक में गूगल ने हाल ही में 400 मिलियन डॉलर यानी 3,299 करोड़ रुपये का निवेश किया है।आधिकारिक तौर पर, Google और एंथ्रोपिक ने इस बारे में कोई टिप्पणी या टिप्पणी नहीं की है। हालांकि, दोनों की आपसी सहमति से या पार्टनरशिप के तहत चैट जीपीटी जैसा एआई टूल तैयार करना होता है।

FAQ

Q. Google का LaMDA क्या है?
उत्तर : LaMDA एक चैटबॉट है जो इंसानों की तरह सोच सकता है। आमतौर पर किसी वेबसाइट या सर्विस के चैटबॉट से चैट करते समय यह कोडिंग के हिसाब से एक तय टोन में आपसे चैट करता है।

Q. Google का AI चैटबॉट बार्ड कब लॉन्च होगा?
उत्तर : टेस्टिंग के बाद इस चैटबॉट बार्ड (Chatbot Bard) को कुछ हफ्तों में सभी के लिए सार्वजनिक तौर पर लॉन्च कर दिया जाएगा।

Q. Google Bard कैसे काम करता है?
उत्तर : Google Bard AI सेवा आपको वेब पर प्रस्तुत की गई जानकारी को और फ़िल्टर करेगी।

Q. Google BARD क्या है?
उत्तर : Google बार्ड एक AI सेवा है।